जीवन का सत्य

बुद्धि = इससे ही जीवन क्रियाशील है। यह ही जीवन का मूल आधार है। यह कई प्रकार से कार्यरत है…..

विद्या = मस्तिष्क के लिए जानकारी जुटाने व जीवन क्रिया शील करने का साधन जो कई प्रकार से कार्य करता है…..

विकार = विकार जीवन को नरक बना देता है, यह पांच भागों में कार्य करता है…..

धर्म = जीवन जीने की विशेष शैली को धर्म कहते है जो निम्न प्रकार है…..

जीवन = शरीर का किर्याशील होना जीवन है इसका निर्माण चार तत्वों द्वारा होता है…..

जीवन धारा =पृथ्वी पर उपलब्ध जीवन और उसके सदस्य…..

कर्म = भौतिक सुखों की प्राप्ति एवं जीवन सुचारू रूप से चलाने के लिए अनिवार्य…..

परिवार = संसार में मनुष्य का पहचान पत्र…..

अंतःकरण बोध = मन के विषयों की सत्यता की परख…..

आत्मिक मंथन = जीवन सम्बन्धित विषयों पर विवेक मंथन…..

समाज = आसपास रहने वाले मनुष्यों का समूह जिनके साथ रहने के कुछ नियम होते हैं…..

बुद्धि भ्रम = किसी विषय की सही जानकारी ज्ञात ना होने पर बुद्धि की स्थिति…..

स्वयं निर्मित समस्याएं = अपनी नादानी से जीवन को कष्टदायक स्थिति में पहुँचाना…..

अध्यात्मिक चिन्तन = इंसानियत की प्रगति के लिए मानसिक मंथन…..

संकीर्ण मानसिकता = बौद्धिक शक्तिओं का अल्प एंव सिमित उपयोग करना……

नैतिक बोध = उत्कृष्ट जीवन के नैतिक नियमों की जानकारीयां…..